उत्तराखंड

कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष को मंदिर समिति सदस्य डिमरी ने भेजा लीगल नोटिस, माफी मांगे गोदियाल नहीं तो मानहानि करूंगा

ब्यूरो : पिछले दिनों मंदिर समिति के सदस्य आशुतोष डिमरी के द्वारा तत्कालीन बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के अध्यक्ष गणेश गोदियाल के कार्यकाल में गड़बड़ी की जांच को लेकर चमोली जिले के प्रभारी मंत्री धन सिंह रावत को मांग पत्र सौंपा गया था जिसके पश्चात मंत्री धन सिंह रावत ने मुख्य सचिव उत्तराखंड और सचिव धर्मस्व को पत्र लिखकर इस संबंध में जांच के निर्देश दिए थे। उसके पश्चात गणेश गोदियाल के द्वारा 8 जुलाई 2022 को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर मंदिर समिति के सदस्य आशुतोष डिमरी पर कई आरोप लगाए गए थे जिसको लेकर मंदिर समिति के सदस्य आशुतोष डिमरी के द्वारा अब उन्हें अपने वकील से लीगल नोटिस भेजा गया है। मंदिर समिति के सदस्य डिमरी के वकील लिखते हैं कि आपके द्वारा मेरे मुवक्किल पर षड्यंत्र के तहत जो झूठे, मनगढ़ंत और निराधार आरोप लगाए हैं इन मनगढ़ंत और निराधार आरोपों से मेरे मुवक्किल की मानहानि हुई है।

नोटिस के माध्यम से पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गोदियाल को कहा गया है कि आपके द्वारा निराधार आरोप लगाए गए हैं इसलिए आप पुनः प्रेस कॉन्फ्रेंस आहूत कर सार्वजनिक तौर पर अपने शब्दों को वापस ले और माफी मांगे। यदि सार्वजनिक तौर पर आप अपने इस आपराधिक कृत्य के लिए माफी नहीं मांगते हैं तो मेरे मुवक्किल को विवश होकर आपके विरुद्ध न्यायालय में मानहानि करनी पड़ेगी।

नोटिस में लिखा गया है कि बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति में अपने कार्यकाल के दौरान व्यापक स्तर पर हुई वित्तीय अनियमितता और अन्य गड़बड़ियों को लेकर जांच का शिकंजा कसते देखकर बौखलाहट में आकर श्री गोदियाल द्वारा मेरे मुवक्किल पर अपने कार्यकाल के दौरान लड्डू का काम लेने, फिल्म निर्देशन और 25 लाख के विज्ञापन के आरोप बिना तथ्यों और प्रमाणों के आधार पर लगाए हैं। वह पूरी तरीके से झूठे और निराधार हैं ।

हमसे हुई बातचीत में समिति के सदस्य श्री डिमरी कहते हैं यदि इन झूठे, तथ्यहीन और निराधार आरोपों का प्रमाण गोदियाल प्रस्तुत कर देते हैं तो मैं सार्वजनिक जीवन तक से सन्यास ले लूंगा। झूठे आरोपों पर श्री गोदियाल जी माफी मांगे नहीं तो उन पर मानहानि का मुकदमा करूंगा

मंदिर समिति के सदस्य श्री डिमरी कहते हैं मैं पूरी शिद्दत के साथ फिर से श्री गोदियाल के कार्यकाल में श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के भीतर हुई बड़ी वित्तीय अनियमितता और गड़बड़ी की जांच की मांग को दोहराते हुए इस पूरे गड़बड़झाले में गोदियाल के साथ उनके चहेते अभियंता अनिल ध्यानी और इस  “करप्शन चैन” में लिप्त अधिकारियों के विरुद्ध जांच की मांग कर रहा हूं। ताकि श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के भीतर बड़े पैमाने पर हुए इस भ्रष्टाचार का पर्दाफाश हो सके
वकील के द्वारा पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व मंदिर समिति के पूर्व अध्यक्ष गणेश गोदियाल के गांव के पते पर यह नोटिस भेजा गया है अब देखना होगा कि नोटिस के जवाब को पूर्व कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और मंदिर समिति के पूर्व अध्यक्ष गणेश गोदियाल किस तरह देते हैं ? वही दूसरी ओर श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति से जुड़े दो पक्षों के आरोप प्रत्यारोप के विवाद के इस मामले पर जब देवांचल न्यूज़ ने पूर्व प्रदेश अध्यक्ष गोदियाल से दूरभाष से वार्ता कर उनका पक्ष जनने का प्रयास किया तो किन्ही कारणों के चलते उन्होंने हमारी फोन कॉल रिसीव नहीं की, उम्मीद की जा रही है कि जल्द ही इस मामले पर बीकेटीसी के पूर्व अध्यक्ष गणेश गोदियाल भी नोटिस के मामले में पर अपना पक्ष जरूर रखेंगे।

[pdf-embedder url=”https://devanchalnews.com/wp-content/uploads/2022/07/defamation-notice-19-Jul-2022-19-52-41.pdf” title=”defamation notice 19-Jul-2022 19-52-41″]

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *