तीरथ की धुँवाधार बैटिंग से जनता और भाजपा कार्यकर्ता में जोश, बिपक्ष के उड़े होश

देहरादून : राजनीति की पिच पर मैच जिताने उतरे नए कप्तान तीरथ सिंह रावत की धुँवाधार बैटिंग से उत्तराखंड की जनता और भाजपा कार्यकर्ता जोश और उत्साह से लवरेज हैं। तीरथ जिस तरह से टीम को लीड करते हुए खुद फ्रंटफुट पर बैटिंग कर रहे हैं वह काबिलेतारीफ है। तीरथ के हालिया फैसलों और बयानों को देखकर ऐसा लगता कि जिस मुख्यमंत्री की तलाश उत्तराखंड की जनता और भाजपा कार्यकर्ताओं को पिछले चार साल से थी वह अब जाकर पूरी हुई है। जनहित से जुड़े मुद्दों पर मुख्यमंत्री के फैसले यह बताने के लिए काफी हैं कि वह पूरी संवेदनशीलता के साथ निर्णय ले रहे हैं। अधिकारियों को उनकी नसीहत कि में तुम किताबें पढ़ो में जनता के चेहरे पढ़ंूगा अपने आप में काफी कुछ कह जाता है। चंद दिनों में सिस्टम जिस तरह से पटरी पर आता हुआ दिखाई दे रहा है वह जनता और भाजपा कार्यकर्ताओं के लिए उत्साहजनक है। तीरथ सिंह रावत के मुख्यमंत्री बनने से सबसे ज्यादा उत्साह उन कार्यकार्ताओं में नजर आ रहा है जो कुछ समय पहले तक संवादहीनता की बात कहते थे।

तीरथ के फैसले जिन्होंने जगाई उम्मीद की किरण

– मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का भ्रष्टाचार पर कङा एक्शन,घटिया सङक निर्माण में किये गये लोनिवि के दो अधिकारी निलम्बित,मुख्यमंत्री ने कहा लापरवाही और भ्रष्टाचार पर होगी कङी कार्रवाई,सोशल मीडिया के वीडिया और खबर का संज्ञान लेकर मुख्यमंत्री तरीथ सिंह रावत ने लोकनिर्माण निर्माण विभाग के दो लापरवाह अधिकारियों पर कार्यवाही करते हुए उन्हें निलम्बित कर दिया गया। सड़क निर्माण में अनियमितांओं के चलते यह कार्यवाही की गई।

– वन प्रबंधन में स्थानीय लोगों की सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने उद्देश्य से 10000 वन प्रहरीओं को तत्काल प्रभाव से तैनात किया जा रहा है । इन वन प्रहरियों में से 5000 महिला वन प्रहरियों की सहभागिता सुनिश्चित करने का फैसला लिया गया है ।

– जीरो टाॅलरेंस ऑन करप्शन एंड क्राइम सरकार की प्राथमिकता, अधिकारियों का जनप्रतिनिधियों के साथ लगातार संवाद रहे,जनता की सरकार जनता के द्वार की परिकल्पना साकार हो।

– मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने त्रिवेंद्र सरकार के कई फैसले पलट दिए हैं। अब राज्य सहकारी बैंक की भर्ती परीक्षा को स्थगित कर दिया गया है।आपको बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के कार्यकाल में राज्य सहकारी बैंक में भर्ती निकाली गई थी।

– मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने घोषणा की है कि कुंभ में आने वाले किसी भी श्रद्धालु के लिए अब कोविड-19 की नेगेटिव रिपोर्ट लाना जरूरी नहीं है। मुख्यमंत्री ने कहा कि महाकुंभ 12 साल में एक बार आयोजित होता है और लोग 12 सालों से कुंभ की प्रतीक्षा कर रहे होते हैं। ऐसे में जब महाकुंभ आयोजित हो रहा है। इसमें पाबंदियां लगाना ठीक नहीं। इतना जरूर है कि कोरोना प्रोटोकॉल,सोशल डिस्टेंसिंग और सैनिटाइजर का प्रयोग जरूर करें।

– त्रिवेंद्र सरकार में पूर्व में जहां कुंभ के लिए ट्रेनों के संचालन पर पाबंदी लगा दी गई थी। वहीं नए मुख्यमंत्री ने पाबन्दियों को हटा अधिक से अधिक ट्रेनें चलाने और बसें चलाने का आदेश दे दिया है।

– मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत पूर्व सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत के एक और फैसले को पलटने की तैयारी में हैं। तीरथ सिंह रावत ने चार धाम देवस्थानम बोर्ड को लेकर जो संकेत दिए हैं। उससे चारों धामों में भी खुशी की लहर है। मुख्यमंत्री ने संकेत दिया है कि चारधाम देवस्थानम एक्ट को लेकर पुनर्विचार किया जा सकता है। मुख्यमंत्री के इस रुख के बाद उनके कैबिनेट सहयोगी भी चार धाम देवस्थानम एक्ट के विरोध में खुलकर बोलने लगे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *